Thursday, November 15, 2012

कौन गीत गाऊं ?



                         आज मन के तार से कौन गीत गाऊं ?

                                 राग भैरवी या अलाप 

                            जीवन का झरना और उसका कलरव 

                                           कैसे गुनगुनाऊं ?

                            झरते हुए जीवन के प्रपात के पैने पन को 

                                           फिर से दोहराऊं ?

                                         या रोऊँ हसूं या गाऊं 

                                            कौन सा गीत गाऊं ?

                                         जीवन नृत्य नहीं 

                                  नृत्य की थाप पर जीवन के कोण बनाता

                                    उस पर रोऊँ या गाऊं ?

                                     अतीत  को देखूं और मुस्कुराऊं 

                                      गाते हुए जीवन में कि कड़ी में 

                                             कड़ियाँ जुडाता  जाऊं 

                                       निर्भीक ,निर्भार ,जीवन का गीत बन 

                                            गीत बनूं 

                                             और गुनगुनाऊं 

                                         कौन सा गीत गाऊं ?

 

9 comments:

  1. गीत वही जो तरंग हो
    जो जीवन में उमंग हो
    गीत वो जो ,बचपन हो
    जो यौवन में मदमस्त हो
    गीत वो जो कुछ तेरा तो
    कुछ मेरा हो ...कुछ संग संग ...तरंग तरंग ||...अंजु (अनु)

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  3. वाह बेहद खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  4. अतीत को देखूं और मुस्कुराऊं
    गाते हुए जीवन में कि कड़ी में
    कड़ियाँ जुडाता जाऊं
    ....very nice....

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना
    :-)

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  7. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/12/2012-4.html

    ReplyDelete
  8. जीवन की परिभाषा से बाहर जीवन की कहानी! शानदार.

    ReplyDelete